Monday, January 17, 2022
No menu items!
17 Jan 2022, 4:58 AM (GMT)

India Coronavirus Update

37,380,253 Total
486,482 Deaths
35,237,461 Recovered
Home Dharm Happy Raksha Bandhan - रक्षाबन्धन - जानें रक्षाबंधन से जुड़ी धार्मिक कथाएं

Happy Raksha Bandhan – रक्षाबन्धन – जानें रक्षाबंधन से जुड़ी धार्मिक कथाएं

Happy Raksha Bandhan – यूँ तो हमारे देश में भाई-बहन का अटूट और निःस्वार्थ प्रेम किसी एक दिन का मोहताज नहीं है | लेकिन अपने धार्मिक एवं ऐतिहासिक कारणों की वजह से ही रक्षाबंधन का दिन इतना महत्वपूर्ण बना है | आज भी लोग इस त्यौहार को बेहद ख़ुशी और उल्लास से मनाते हैं |

भारत में विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं |और सभी के अपने अपने कई त्यौहार होते हैं |इन सभी त्यौहारों में रक्षाबंधन सबसे अधिक मनाया जाने वाला त्यौहार है |वैसे तो यह त्यौहार मुख्यतः हिन्दुओं में प्रचलित है, पर इसे सभी धर्मों के लोग समान भाव से मनाते हैं |

यह त्यौहार हिन्दू श्रावण मास (जुलाई-अगस्त) की पूर्णिमा को मनाया जाता है | इस दिन बहनें अपने भाई की दाहिनी कलाई पर राखी बांधती हैं, और तिलक करती हैं | भाई अपनी बहिनों को उपहार एवं उनकी रक्षा का वचन देते हैं | हालाँकि आज के समय में रक्षाबंधन की व्यापकता इससे कहि ज्यादा हो गयी है | आज-कल राखी देश की रक्षा, हितों की रक्षा आदि के लिए भी बाँधी जाती है |

Happy Raksha Bandhan Wishes, Quotes, SMS, Messages for Raksha Bandhan 2020

रक्षाबन्धन का ऐतिहासिक महत्व :-

रक्षाबंधन का त्यौहार मनाने के पीछे हिन्दू पुराणों में कई पौराणिक कथाओं का उल्लेख है | जो इस प्रकार हैं –

पहला प्रसंग वामनावतार नामक पुराण में मिलता है | जिसकी कथा इस प्रकार है-

जब राजा बलि ने अपने 110 यज्ञ पूरे कर लिए |तब सभी देवताओं एवं इंद्र को यह भय सताने लगा कि राजा बलि अब अपने यज्ञों की शक्ति से स्वर्ग पर भी अपना अधिकार कर लेंगे | इस बात से परेशान होकर सभी देवता भगवन विष्णु के पास गए | और उनसे विनती की, कि वे राजा बलि से स्वर्ग की रक्षा करें | तब भगवान विष्णु एक ब्राह्मण का रूप धारण करके राजा बलि के पास गए | और उनसे भिक्षा में तीन पग भूमि मांगी | राजा बलि के गुरु ने ब्राह्मण रुपी श्री विष्णु को पहचान लिया |उन्होंने राजा बलि को सचेत किया परन्तु राजा बलि नहीं माने| और उन्होंने ब्राह्मण को तीन पग भूमि देने का वचन दे दिया |तब भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण करके एक पग में स्वर्ग, दूसरे पग में पृथ्वी एवं पूरा ब्रह्माण्ड नाप लिया | और राजा बलि से पूछा कि हे राजन! अब मैं अपना तीसरा पग कहाँ रखूँ |तब राजा बलि ने अपना मस्तक झुकाते हुए कहा कि आप अपना तीसरा पग मेरे मस्तक पर रखिये |

इस प्रकार भगवान विष्णु ने राजा बलि से स्वर्ग की रक्षा की| और राजा बलि को रसातल में रहने के लिए भेज दिया | तथा राजा बलि की भक्ति से प्रसन्न होकर उन्हें वरदान मांगने को कहा | तब राजा बलि ने भगवान विष्णु से वरदान माँगा की हे प्रभु मैं बस इतना चाहता हूँ की आप सदैव मेरे सामने रहें | इस वरदान के कारन भगवान विष्णु को भी रसातल में रहना पड़ा |

भगवान विष्णु के रसातल में जानें की वजह से माता लक्ष्मी बहुत परेशान थी |तब नारद मुनि ने माता लश्मी को इस समस्या का समाधान बताया | नारद मुनि की बात सुनकर माता लक्ष्मी राजा बलि के पास गयी | और नारद मुनि के कहे अनुसार उन्होंने राजा बलि को रक्षा सूत्र बंधा और उपहार में राजा बलि से भगवान विष्णु को माँगा | उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा थी | तभी से रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जानें लगा |

दूसरा प्रसंग जिसकी कथा इस प्रकार है-

दूसरा प्रसंग उस समय का है जब राजपूतों और मुस्लिम शासकों में युद्ध चल रहा था |तब चित्तौड़ की रानी कर्णावती ने अपने राज्य को बचाने के लिए मुस्लिम शासक हुमायूँ को राखी भेजी | तब हुमायूँ ने रानी कर्णावती को बहन मानकर उनकी और उनके राज्य की रक्षा की |

तृतीय प्रसंग जिसकी कथा इस प्रकार है-

तृतीय प्रसंग महाभारत काल से है | जब शिशुपाल का वध करते समय भगवान श्री कृष्ण की तर्जनी ऊँगली में चोट लग गयी, तब द्रोपदी ने अपनी साड़ी का कोना फाड़कर भगवान कृष्ण की ऊँगली पर बांध दिया | और भगवान श्री कृष्ण ने भी द्रोपदी को सदैव रक्षा करने का वचन दिया | तभी से राखी का त्यौहार मनाया जाने लगा | जब दुर्योधन ने द्रोपदी का चीर हरण करवाया तब भगवान श्री कृष्ण ने उनकी रक्षा करके अपना वचन निभाया था |

लेकिन आज बहुत से भाइयों की कलाई सूनी रह जाती है क्योंकि लड़कियों को उनके माँ-बाप दुनियां में आने ही नहीं देते | कितनी शर्म की बात है की जहां हमारे धर्मों में कन्या को देवी का रूप बताया है वहीं आज कन्या भ्रूण हत्या के मामले सामने आते हैं | यह त्यौहार हमें याद दिलाता है कि बहनें हमारे जीवन के लिए कितनी महत्वपूर्ण हैं |

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कृष्ण जन्माष्टमी 2020: तिथि, पूजा का समय, इतिहास, और महत्व

Krishna Janmashtami 2020 तिथि, पूजा समय: कृष्ण पूजा आमतौर पर मध्यरात्रि में आयोजित की जाती है। अनुष्ठान पूजा में 16 चरण शामिल...

एमएस धोनी ने नेट्स पर की बापसी, CSK स्किपर ने UAE में होने वाले IPL 13 के लिए शुरू किया अभ्यास : रिपोर्ट

आईपीएल का इंतजार लगभग खत्म होने वाला है। अब आईपीएल का आगामी सत्र यूएई में 19 सितंबर से शुरू होगा और फाइनल...

बॉबी देओल की Class of 83 का ट्रेलर हुआ रिलीज़ । फिल्म 21 अगस्त से Netflix पर देख पाएंगे

Netflix पर रिलीज़ होने वाली बॉबी देओल की अगली फिल्म 'Class of 83' का ट्रेलर रिलीज़ हो गया है, जिसमें बॉबी देओल...

भोजपुरी एक्टर अनुपमा पाठक की मुंबई में हुई मौत, पुलिस को है सुसाइड का शक

Anupama Pathak - पुलिस का कहना है कि भोजपुरी फिल्म अभिनेत्री अनुपमा पाठक ने कथित तौर पर अपने मुंबई स्थित घर पर...